कुल पेज दृश्य

बुधवार, 7 अगस्त 2013

शर्म करो सरकार !

भारतीय सीमा में घुसकर भारतीय जवानों पर हमले की निंदा और इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देने का काम भारत सरकार ने बिना देर किए कल ही निपटा दिया था। लगे हाथों हमारे रक्षा मंत्री ए के एंटनी ने संसद में अपने बयान में पाकिस्तान को ये कहकर क्लीन चिट दे दी कि हमला करने वाले आतंकी पाकिस्तानी सेना की वर्दी में थे..! वैसे भी पाकिस्तान हर बार की तरह इस बार भी पहले ही इंकार कर चुका है कि उसका इस हमले में हाथ नहीं है..! (पढ़ें- पाक को भारत का करारा जवाब !)
पाकिस्तान के हमले पर सरकारी उदासीनता को लेकर देश गुस्से में है लेकिन कांग्रेस नीत यूपीए सरकार ने पाक के खिलाफ कोई कठोर कदम उठाने की बजाए एनडीए और यूपीए शासनकाल में हुए आतंकी हमलों और इसमें हुए आम लोगों की मौत और सैनिकों की शहादत के आंकड़ों की तुलना कर इस पर भी सियासत शुरु कर दी है..!
कांग्रेस प्रवक्ता अजय माकन कह रहे हैं कि एनडीए के राज में 1998 से 2004 के दौरान जम्मू कश्मीर में सबसे ज्यादा 6115 आम नागरिक मारे गए जबकि यूपीए के दौर में पिछले साल सिर्फ 15 लोग मारे गए। एनडीए के राज में 1998 से 2004 के दौरान कुल 23603 आतंकी वारदात हुईं यानी हर साल 3372 आतंकी वारदात जबकि यूपीए राज में पिछले साल सिर्फ 220 ऐसी घटनाएं हुईं। माकन आंकड़ों का हवाला देकर कहते हैं कि इससे साबित होता है कि हमारी सरकार देश की सुरक्षा को लेकर गंभीर है..!
माकन साहब आतंकी घटनाओं की तुलना कर आप सरकार की गंभीरता को दिखाने का प्रयास कर रहे हैं..? पिछली सरकार के कार्यकाल से तुलना करने से आपका दामन पाक साफ नहीं हो जाता..! आपको तो जनता ने बेहतरी के लिए चुना है न, तो अच्छा कीजिए, पिछली सरकार के कामों का हवाला देकर अपनी गलतियों पर पर्दा डालने से आप खुद को दूध का धुला साबित नहीं कर सकते..!
यूपीए सरकार के कार्यकाल में कम घटनाएं हुई इसके लिए आपको बधाई...अब खुश हैं आप..? लेकिन अगर एक भी घटना हो रही है, एक भी जवान शहीद हो रहा है तो क्यों..? क्या इसे रोकने के लिए कारगर कदम उठाना आपकी सरकार की जिम्मेदारी नहीं है..?   
अगर सीमा में पाकिस्तानी सैनिकों के हमले में एक भी भारतीय जवान शहीद हो रहा है तो उस पर भी आपको दर्द होना चाहिए..! क्योंकि वो भी किसी का बेटा है, किसी का पति है, किसी का भाई है, किसी का पिता है..! जो अपने परिजनों से हजारों किलोमीटर दूर विपरित परिस्थितियों में उन दुर्गम इलाकों में देश की रक्षा के लिए जी जान लगा देता है जहां रहना किसी चुनौती से कम नही है..! लेकिन आप इस दर्द को कैसे समझेंगे इनमे आपका कोई अपना नहीं है न..!
आपके लिए तो लगता है भारत मां से भी बढ़कर सत्ता है, कुर्सी है..! जिस पर रहते हुए आप दुश्मनों से भारत मां की रक्षा के लिए कोई कदम उठाने की बजाए आंकड़ों का सहारा लेकर राजनीति कर रहे हैं..! आप क्या इस बात का इंतजार कर रहे हैं कि एनडीए सरकार के कार्यकाल से ज्यादा घटनाएं या हमले जब यूपीए सरकार के कार्यकाल में होंगे तब ही आप देश की सुरक्षा को लेकर गंभीर होंगे..?
वक्त है, अब भी संभल जाओ ये वक्त राजनीति करने का नहीं है बल्कि पाकिस्तान जैसे धूर्त पडोसी को करारा जवाब देने का है, हमारी चुप्पी पाकिस्तान का हौसला ही बढ़ाती है जो आए दिन ऐसे हमलों के रुप में सामने आते हैं..!


deepaktiwari555@gmail.com