कुल पेज दृश्य

मंगलवार, 7 मई 2013

क्यों बेबस है भारत..?


21 दिनों तक भारत के सीने पर मूंग दलने के बाद भले ही चीनी सेना वापस लौट गयी हो लेकिन ये 21 दिन ऐसा लगा भारत के लिए किसी गुलामी से कम नहीं थे..! गुलामी शब्द का इस्तेमाल शायद बहुत से लोगों को रास नहीं आ रहा होगा लेकिन भारतीय सीमा में घुसपैठ कर 21 दिनों तक भारत को हेकड़ी दिखाने वाले चीन ने जिस तरह से उस इलाके में बैनर लगाकर उसे अपना क्षेत्र घोषित कर दिया और जिस तरह भारत सरकार मूकदर्शक बनी रही उससे क्या ये जाहिर नहीं होता..? 
ये भारत की बेबसी नहीं तो और क्या थी..? हमारी सरकार चीन को तो अपनी सीमा से बाहर खदेड़ नहीं सकी..! चीन जब खुद वापस गया भी अपनी शर्तों पर और जाते जाते भारत को उसी के क्षेत्र में पीछे हटने पर मजबूर कर गया..!
भारत पर शुरु से ही नज़रें गढ़ाए बैठे चीन ने 21 दिनों तक लद्दाक के दौलत बेग ओल्डी में पूरी तरह राज किया..! भारत का दुर्भाग्य ये रहा कि भारत सरकार ने अपनी क्षेत्र में घुसी पड़ोसी देश की सेना को बाहर खदेड़ने के लिए कोई कड़े कदम नहीं उठाए और भारत सरकार चीन से पीछे हटने के लिए सिर्फ विनती ही करती रही..! (जरूर पढ़ें- और कितने थप्पड़ खाओगे..?)
खबरें तो यहां तक है कि चीनी सेना के कहने पर भारत सामरिक दृष्टि से अहम माने जाने वाली चुमार पोस्ट से पीछे हटने पर राजी हो गया है..!   
आखिर ऐसी क्या मजबूरी थी कि भारत को अपने ही इलाके से अपने सैनिक पीछे हटाने पड़े..?  भारत चुमार पोस्ट से पीछे हटने पर सहमत हो गया..?
आखिर अपने ही घर में हम क्यों दब्बू बने बैठे रहे और चीन हमारे घर में घुसकर हम पर हेकड़ी जमाता रहा..?
शायद यही फर्क है चीन में और भारत में कि चीन को एलएसी के पास भारत की किसी गतिविधि पर अगर आपत्ति थी तो उसने बातचीत का रास्ता नहीं अपनाया और सीधे भारत में घुसपैठ कर अपने आक्रमक इरादे जाहिर कर दिए और अपनी बात मनवा के ही भारतीय इलाका छोड़ा जबकि हम हमारे घर में घुसे पड़ोसी को भगाने के लिए आक्रमक रुख अपनाने की बजाए बातचीत से हल निकालने की बात ही करते रह गए..!
भारत सरकार को क्या लगता है कि 21 दिनों तक चीनी सेना सिर्फ अपने तंबूओं में आराम करती रही होगी..? क्या चीन ने 20 किलोमीटर भारतीय सीमा के अंदर के एक एक स्थान का जायजा नहीं लिया होगा..? जिसका फायदा वो भविष्य में कभी भी भारत के खिलाफ उठा सकता है..! चीन भले ही वापस लौट गया लेकिन वो अपने मकसद में तो कामयाब ही रहा..!
भारत सरकार भले ही चीनी सेना के पीछे हटने को इसे अपनी कूटनीतिक जीत बताते हुए इतरा रही हो लेकिन सरकार में शामिल लोग इस बात को नहीं नकार सकते कि 21 दिनों तक वे चीन के आगे बेबस रहे..!
सवाल ये उठता है कि आखिर क्यों भारत बेबस बना रहा और चीन को अपनी सीमा से बाहर करने में विफल रहा..? क्या भारत चीन के 40 सैनिकों से घबरा गया था..?  (जरूर पढ़ें- सिर्फ 40 चीनी सैनिक ही तो हैं..!)
इसका जवाब सरकार की तरफ से गोल मोल ही मिल रहा है लेकिन चीन के आगे भारत की इस बेबसी ने विश्व बिरादरी में न सिर्फ भारत की कमजोर छवि को पेश किया है बल्कि ये भी दर्शा दिया कि भारत अपनी सीमाओं तक की रक्षा करने में सक्षम नहीं है..!
वजह चाहे जो भी हो लेकिन चीनी घुसपैठ पर भारत सरकार के लापरवाह और लचर रवैये ने चीन का हौसला ही बढ़ाया है..! आज चीन ने भारतीय सीमा में घुसपैठ कर अपनी बात मनवा ली तो क्या गारंटी है कि कल फिर वो ऐसी हरकत नही करेगा..? जाहिर है चीन की फितरत नहीं बदलेगी और वह फिर से ऐसी हरकत करेगा...ऐसे में भारत ने वक्त रहते अपनी पिछली गलतियों से सबक नहीं लिया तो आने वाला वक्त में चीन भारत के लिए बड़ा खतरा बन सकता है..! (जरूर पढ़ें- वर्ना बदल जाएगा भारत का नक्शा..!)

deepaktiwari555@gmail.com